सोमवार, 16 दिसंबर 2013

एक बेहतरीन और निस्वार्थ साथी का असमय अंत... क्या आप भी मेरी तरह उसकी कमी महसूस करते हैं...

.
.
.




वह वाकई बेहतरीन और निस्वार्थ था... तकरीबन दो साल पहले यह पोस्ट (लिंक) भी लिखी थी उस पर मैंने... बीते १९ नवंबर को अचानक उस बेहतरीन साथी का असमय अंत हो गया... तभी से वह कोई नयी फीड नहीं ले रहा है... कारण क्या है, मुझे नहीं पता...

मुझे उसकी कमी बहुत खलती है...



क्या आप भी मेरी तरह उसकी कमी महसूस करते हैं ?




...


4 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

देखो जरा नब्ज चल रही हो क्या पता :)

Er. Shilpa Mehta : शिल्पा मेहता ने कहा…

हारम अब नहीं चलता ? कुछ दिन पहले देखा तब मैंने सोचा कि मेरे नेट में प्रोब्लम है । :(

Anurag Sharma ने कहा…

बिलकुल। मुझे तो इस बात का भी अफसोस है कि इस प्रकार की संभावनाएं ऐसे गुमनामी में समाप्त हो जाती हैं और किसी को पता भी नहीं लगता कि इतने बड़े कामों के पीछे किसकी लगन लगी हुई थी।

SEO ने कहा…

Lucknow SEO

SEO Service in Lucknow

SEO Company in Lucknow

SEO Freelancer in Lucknow

Lucknow SEO Service

Best SEO Service in Lucknow

SEO Service in India

Guarantee of Getting Your Website Top 10



Love Stickers

Valentine Stickers

Kiss Stickers

WeChat Stickers

WhatsApp Stickers

Smiley Stickers

Funny Stickers

Sad Stickers

Heart Stickers

Love Stickers Free Download

Free Android Apps Love Stickers